Friday, July 19, 2024
Homeवेब सिरीज़मिर्जापुर में गोलू और छोटे के बेल्ट वाले इरोटिक सीन पर बोले...

मिर्जापुर में गोलू और छोटे के बेल्ट वाले इरोटिक सीन पर बोले विजय वर्मा, आप तब लड़के से मर्द बने हैं…


मिर्जापुर का सीजन 3 आने वाला है और दर्शक इसे देखने के लिए एक्साइटेड हैं। सीजन 2 में कुछ शॉकिंग सीन नजर आए थे। इनमें से एक में गोलू यानि श्वेता त्रिपाठी और छोटे त्यागी (विजय वर्मा) का इंटीमेट सीन होता है। यह सीन किसी इरॉटिका जैसा था। अब विजय वर्मा ने एक इंटरव्यू के दौरान इस पर बात की है। उन्होंने कहा कि छोटे त्यागी को गोलू ने कामुक सेक्स करना सिखाया था। असल ज़िंदगी में भी लोग अपने पार्टनर से काफी कुछ सीखते हैं। मिर्जापुर वेब सीरीज 5 जुलाई को रिलीज हो रही है।

शुरू में इरॉटिका पढ़ती थी गोलू

विजय वर्मा ने न्यूज18 शोशा से बातचीत में गोलू और छोटे के इंटीमेट सीन पर बात की। वह बताती हैं, 'इस सीन में एक लड़का है जो मासूम है, दिल और दिमाग से रोमांटिक है और उस लड़की से प्यार करता है।' क्या होता है कि अचानक उसे अपने बारे में कुछ पता चलता है। वह लड़की उसकी टीचर होती है। उस पात्र के लिए गोलू के साथ इस तरह का प्रयोग करना दिलचस्प था। सामने से वह एक सामान्य और प्यारी सी लड़की लगती है। लेकिन लोग शायद भूल गए कि अपने पहले सीन में वह एक लाइब्रेरी में इरॉटिका पढ़ती दिखाई दी थी। वह छोटे का परिचय इससे (इरॉटिक सेक्स) से कराती है।'

पार्टनर से सीखते बहुत कुछ हैं

जीत होती है, जिंदगी ऐसे ही खेल खेलती है। हम अपने पार्टनर्स से बहुत कुछ सीखते हैं। शुरुआत में विशेष सेक्सुअली, ऐसा नहीं है कि आप अपनी सारी चीजें सीख जाते हैं। जब आप एक खास तरह की ऊर्जा से मिलते हैं तो लड़के से मर्द बनते हैं।'

जब गोलू ने कहा, मारो

विजय याद करते हैं कि उन्होंने सीन में अपना आधार कैसे दिया था, 'जब गोलू उन्हें बेल्ट देकर बोलता है, तो वह खुद को मारना चाहता है। जब मैंने ये आइडिया दिया तो गुरु (डायरेक्टर गुरमीत सिंह) हंसने लगे थे। मैंने उन्हें बताया कि उस बंदे को पता ही नहीं है कि वह क्या कह रही है।'

ऐसे मिलती है सेक्स सीन्स की ट्रेनिंग

बता दें कि मिर्जापुर में कई इंटीमेट सीन्स हैं लेकिन इंटीमेट को-ऑर्डिनेटर नहीं थे। तीसरा सीजन भी बिना इंटीमेसी को-ऑर्डिनेटर के शूट हुआ है। विजय ने बताया कि इंटिमेसी को-ऑर्डिनेशन क्लास में शामिल होने से काफी फायदा होता है। उन लोगों ने भी वही किया था जिससे बिना किसी इंटीमेसी निदेशक के सीन आसानी से हो जाते हैं। इसमें बताया जाता है कि एक्टर की फिल्में कहां तक ​​जाती हैं।



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments