Saturday, April 20, 2024
Homeफ़ैशनफतवे जारी कर दो... कश्मीरी फाइल्स पर बोलने वाले इजरायली फिल्ममेकर पर...

फतवे जारी कर दो… कश्मीरी फाइल्स पर बोलने वाले इजरायली फिल्ममेकर पर बहुत बरसे विवेकहोत्री


ऐप पर पढ़ें

इफ्फी में द कश्मीर फाइल्स पर इजरायली फिल्म निर्माता नादव लिपिड के बयान के बाद बवाल मचा है। इस विवाद पर अब मूवी डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री ने चुप्पी तोड़ी है। विवेक ने वीडियो शेयर करके अपनी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने नादविद जो कि इफ्फी ज्यूरी के खाते भी हैं, उनके बयानों को निशाने पर लिया है। ही साथ उनका समर्थन करने वाले भारतीय लोगों पर भी सवाल उठाया है। विवेकहोत्री ने चैलेंज किया है कि अगर कोई यह साबित करता है कि वह फिल्म में जो भी दिखाया है वो सच नहीं था तो वह फिल्में बनाना छोड़ देंगे। बता दें कि सोमवार को इंटरनैशनल फिल्म फेस्टिवल इंडिया की क्लोजिंग सेरेमनी पर को नादव ने फिल्म द कश्मीर फाइल को वाल्गर और प्रोपेगैंडा बताया था। तबसे इस मामले पर अभिनेता, पॉलिटिशियंस और डिप्लोमैट्स की चिंता आ रही है।

भारत सरकार के मंच पर समर्थित …

विवेक ने वीडियो को अटका दिया है, आंतक को समर्थन करने वाले और नरसंहार से इनकार करने वाले मुझे कभी शांत नहीं कर सकते। जय हिंद। वीडियो में विवेक कहते हैं, दोस्तो इफ्फी गोवा में, ज्यूरी के अकाउंट ने कहा कि द कश्मीरी फाइल्स एक वाल्गर और प्रोपेगैंडा फिल्म है। मेरे लिए यह कोई नई बात नहीं है। इस तरह की बातें तो तमाम आतंकवादी संगठन, अरबन डीक्रेट्स और भारत के टुकड़े-टुकड़े करने वाले लोग ही रहते हैं। लेकिन मेरे लिए आश्चर्यजनक बात यह है कि भारत सरकार द्वारा आयोजित, भारत सरकार के मंच पर कश्मीर को भारत से अलग करने वाले आतंकवादी लोगों के नैरीत्व को समर्थन दिया गया। और उस बात को लेकर भारत में ही रहने वाले कई लोगों ने भारत के खिलाफ इसका इस्तेमाल किया। बढ़ता जा रहा है द कश्मीर फाइल्स विवाद, इस्राइली फिल्ममेकर के खिलाफ शिकायत दर्ज

यासीन मलिक ने कुबूल जुर्म किया

आख़िर वे लोग कौन हैं? ये वही लोग हैं, जो कश्मीर फाइलें के लिए फिर से चालू किया गया था तब से इसका प्रचार बोल रहे हैं। 700 लोगों के पर्सनल इंटरव्यू के बाद यह फिल्म बनी है। क्या वो 700 जिनके मां-बाप, भाई-बहनों को सरेम मार दिया गया, गैंगरेप किया गया, दो बंधक में बांट दिया गया क्या वो सब लोग प्रोपागैंडा और जहरीली चीजें कर रहे हैं। जो पूरी तरह से हिंदू भूमि हो गई थी वहां हिंदू नहीं रह रहे हैं। उस धरती पर आज भी आपकी आंखों के सामने हिंदू को चुन-चुनकर मारा जाता है, क्या यह प्रोपगैंडा और अश्लील बात है? यासीन मलिक अपने आतंक के जुर्मों को कुबूल कर आज जेल में सो रहा है, क्या वो प्रचार और जहरीली बात है? दोस्तों कश्मीर फाइल्स को लेकर हमेशा यह सवाल उठता है कि यह एक प्रोपगैंडा फिल्म है।

विवेक अग्निहोत्री ने दिया चैलेंज

मतलब वहां कभी जनसंहार ही नहीं हुआ। आज मैं दुनिया के तमाम बुद्धिजीवियों, अर्बन डेंटिस्ट और जो महान फिल्म निर्माता इस्राइल से आए हैं उनकी चुनौतियां हैं कि कश्मीर फाइल्स का मैं एक शॉट, डायलॉग और इवेंट कोई साबित कर दे कि यह सच नहीं है तो फिल्में बनाना छोड़ देंगी। दोस्तों ये लोग हैं जो हमेशा भारत के साथ खड़े होते हैं। ये वो हैं जो मोपला का सच किसी के सामने नहीं आने दिया। कश्मीर का सच सामने नहीं आया। ये वही लोग हैं जो कोविड में जलाती लाशें बेच रहे थे। विवेक बोले, लगातार फतवे जारी करते हैं, लेकिन मैं रोता रहूंगा।



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments