Monday, July 15, 2024
Homeफ़ैशनट्विंकल साइंटिस्ट में बाकी जगहें हैं नोट्स, बॉलीवुड यूनिवर्सिटियों से जुड़े हुए...

ट्विंकल साइंटिस्ट में बाकी जगहें हैं नोट्स, बॉलीवुड यूनिवर्सिटियों से जुड़े हुए हैं


ऐप पर पढ़ें

बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार की पत्नी राइटर ट्विंकल खन्ना का अप्रोच हर मुद्दे को लेकर काफी बेबाक और मस्तीभरा होता है। अब उन्होंने बताया कि वह अपने न्यूजपेपर्स कॉलम्स की तैयारी कैसे करती हैं और किस तरह कई बार साधकों के साधकों में अपने नोट्स तैयार करती हैं। अपने पति अक्षय कुमार के साथ सुपरस्टार मनकर के साथ वापसी के बाद ट्विंकल खन्ना टिस्का चोपड़ा के साथ घर गए और अपने राइटिंग स्टूडियो पर बातचीत की। ट्विंकल खन्ना ने बताया कि किस तरह से लॉकडाउन के दौरान उनकी लालची भावना खत्म हो गई थी।

ट्विंकल खन्ना यूं खोजी टॉपिक हैं
टीवी इंडिया के लिए बातचीत में जब ट्विंकल खन्ना से पूछा गया कि वह हर वीकेंड के लिए ऐसे टॉपिक कैसे ढूंढते हैं, तो उन्होंने बताया, “पिछले कुछ समय से मैं थोड़ा स्लो हो गया हूं। मैंने इस बारे में सप्ताहांत शुरू कर दिया है।” दिया है, मेरे पास कुछ रसायन विज्ञान होते हैं, कुछ नोट्स होते हैं, मैं एक ढांचा तैयार कर रहा हूं और फिर मैं मूर्ति के रूप में स्थापित कर रहा हूं। लेकिन यह सब मैं पिछले 10 से कर रहा हूं। तो यह एक प्रक्रिया है। बन गया है।”

बोलीं- मैं किसी गिलहरी की तरह
ट्विंकल खन्ना ने बताया कि वह डेडलाइन को फॉलो करती हैं। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि किरिन डेड हो गई है, आपका सबसे बड़ा डर है। अगर आपकी डेडलाइन शुक्रवार की है तो आपके पास कोई एक्सक्यूज नहीं है। मुझे अपना काम देना ही है और वह आपकी मदद करने के लिए दबाव डाल रहा है। एक ही मौका है।” जब मैं बहुत धीमी गति से प्रेरित हुआ और बेमन हो गया और यह वक्ता था 2.2 का दौर। यह मेरे स्वभाव की वजह से था, क्योंकि मैं किसी गिलहरी की तरह हूं, मैं बाहर हूं और किस्से जमा करता हूं।”

अंतिम चरण में मैं नोट्स रखता हूँ
ट्विंकल खन्ना ने कहा, “ये किस्से मेरे लिए मेरी मूंगफलियां जैसी हैं और मैं उन्हें अपने बिल में लेकर घुस जाता हूं। उन्हें पकाता हूं और चाहता हूं। मैं हमेशा सुनने और समझने की कोशिश करता हूं कि बाकी लोग क्या बोल रहे हैं, मैं किसी पार्टी के साझीदार में शामिल होने के लिए उन पर नोट्स तैयार हो रहे हैं। तो जब पार्टी ना हो रही हो और कहीं जाने को ना हो और जब ये सब आवाज दें मेरे फ्लैट-गिर्द ना हों तो कुछ ऐसा ना हो जो मुझे रोक ले। येलौता समय था जब मेरी निरर्थक मंडावी पढ़ी गई थी।”



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments